Search
Saturday 10 April 2021
  • :
  • :
Latest Update

शिशोदा क्षेत्रपाल चेरिटेबल ट्रस्ट के अध्यक्ष बने रमेश धाकड़ मुम्बई आने पर जगह जगह हुआ स्वागत

शिशोदा क्षेत्रपाल चेरिटेबल ट्रस्ट के अध्यक्ष बने रमेश धाकड़ मुम्बई आने पर जगह जगह हुआ स्वागत

मुम्बई। मेवाड़ के प्रसिद्ध तीर्थ स्थल शिशोदा क्षेत्रपाल भेरुनाथ चेरिटेबल ट्रस्ट मण्डल के अध्यक्ष पद पर मेवाड़ के उद्योगपति दानवीर भामाशाह मेवाड़ रत्न समाजरत्न जैसे सेकड़ो सन्मानो से सन्मानित जन जन के लाडले सबके चाहते शिशोदा निवासी मुम्बई प्रवासी रमेश कुमार हमेरमल धाकड़ को ट्रस्ट के अध्यक्ष बनाये। रमेश धाकड़ के इस पद पर आते ही बावजी के लाखों भक्तों में खुशी की लहर दौड़ पड़ी रमेश धाकड़ सबका चाहता चेहरा है सर्व मान्य व्यक्ति निपक्ष सच्चाई का साथ देने वाला चेहरा ट्रस्ट मण्डल का अध्यक्ष बनते ही सम्पूर्ण मेवाड़ ही नही पूरे भारत भर में बावजी के भक्तों में खुशी की लहर दौड़ पड़ी। रमेश धाकड़ के अध्यक्ष बनने के बाद पहली बार मुम्बई आगमन पर जगह जगह धाकड़ का भव्य सन्मान किया गया। मलाड स्थित मंशापूर्ण क्षेत्रपाल मंदिर में सेकड़ो भक्तों के सन्मुख मंदिर के छोगालाल रोशनलाल सोहनलाल धाकड़ सहित मंदिर मण्डल की तरफ से भव्य सन्मान किया गया।

मुम्बई गिरगांव स्थित सनराइज सोसाइटी में प्रवासियों द्वारा लीलाबेन तिलकराज सिंघवी के नेतृत्व में भव्य स्वागत किया गया इस अवसर पर तेरापंथ युवक परिषद के निवर्तमान राष्ट्रीय अध्यक्ष भारत जैन महामण्डल के राष्ट्रीय युवा अध्यक्ष बी सी भालावत भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस सेवा के राष्ट्रीय सेकेट्री प्रवासी नेता प्रकाश पी पामेचा चम्पाबेन मेहता मंजुबेन भगवती लाल सोलंकी निर्मला बेन बंशीलाल दुग्गड़ पूजा नीलेश धाकड़ राकेश सिंघवी संजय सिंघवी मीना राकेश परमार अरुण संजय सिंह सहित सेकड़ो पारिवारिक सदस्य व प्रवासी लोग थे। इस अवसर प्रवासी नेता पामेचा ने कहा कि खेतपाल बावजी के ट्रस्ट मण्डल के अध्यक्ष पद पर धाकड़ के आने से बहुत ही सुधार होगा धाकड़ एक सर्वमान्य चेहरा है और शिशोदा मंदिर में 36 कॉम के लाखों लोग आते दर्शन को ओर धाकड़ 36 कॉम का चाहता चेहरा है। ज्ञात हो कि शिशोदा मंदिर भेरुनाथ की स्थापना 14 शताब्दी से पूर्व की है ये मंदिर 800 साल पुराना है एक मान्यता अनुसार महारास्ट्र के आराध्य छत्रपति शिवासी महाराज के वंशज उनके दादा जी ने शिवाजी के पिताश्री की शादी के वक़्त खेतपाल पूजन की प्रथा के अनुसार खेतपाल पूजन के लिए शिशोदा में एक नमूने को क्षेत्रपाल मान कर पूजा की वो ही बाद में मंदिर बन कर शिशोदा क्षेत्रपाल के नाम से विश्व विख्यात हुए। आज मेवाड़ राजस्थान ही नही देश विदेश से लाखों भक्त अपने आराध्य कलयुग में साक्षतात चमत्कारी खेतपाल के दर्शन को आते। जग महोत्सव पर भारत भर से लोग पैदल साइकल से यहां हजारो लोग आते।

जग महोत्सव में लाखों भक्त दर्शनात आते। वैसे हर रविवार मंदिर में भव्य मेला लगता जिसमे हजारो लोग आते। घण्टो लाइन में खड़े होकर अपने दर्शन का इंतजार करते है। कलयुग में महान चमत्कारी खेतपाल बावजी आज जग विख्यात है।। ऐतिहासिक जानकारी के अनुसार चौहदवीं शताब्दि में स्थापित इस मंदिर की काफी चर्चा शुरू से है क्यो की यहां आने वाले हर भक्त की मनोकामना फलित होती रही है अरावली पहाड़ियों के सुरम्भय के बीच यह मंदिर नाथद्वरा श्रीनाथ जी से 15 किलो मीटर पर विशाल मंदिर के चारो तरफ बड़ी बड़ी धर्मशाला बनी है जहां किसी बिना भेदभाव के श्रदालुओ को निशुल्क आवास मिलता है। मुख्य द्वार के बाहर विशाल चोक पर 2 हाथी है जो मंदिर के स्वागत पर बने है। वर्ष में 4 बार बड़े जागरण होता जिसमे लाखो लोग आते बाकी हर शनिवार रविवार जागरण होते है। रमेश धाकड़ के इस मंदिर के ट्रस्ट मण्डल का अध्यक्ष बनने पर हर जगह खुशी का माहौल है। लोग यहां कष्ट निवारण के लिए आते है और भेरुनाथ सबके दुखः कष्ट दूर करते। मंदिर के पुजारी विजय सिंह जी हप्ते के सातों दिन लोगो के दुख दूर करने के लिए सदैव खड़े रहते हर आने वाले कि समस्या का निदान विजय सिंह जी भोपाजी करते है पामेचा ने बताया कि इस भव्य मंदिर के विशाल ट्रस्ट के अध्यक्ष पद पर धाकड़ के आने से चहुमुखी विकास होगा और भक्तों को ओर भी ज्यादा सुख सुविधा मिलेगी




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *