Search
Sunday 24 February 2019
  • :
  • :

Rajasthan News: life imprisonment for innocence in excessive life – मासूम से ज्यादती मामले में अभियुक्त को आजीवन कारावास

सीकर, 11 फरवरी (भाषा) राजस्थान के सीकर जिले के खाटूश्यामजी थाना इलाके में चार साल साल की मासूम से ज्यादती करने के मामले में अदालत ने वाद दायर करने के पांच दिन में फैसला सुनाते हुए अभियुक्त को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश अनिल कुमार कौशिक ने सोमवार को पोक्सो एक्ट में यह फैसला सुनाया। फैसले के अनुसार अभियुक्त करण उर्फ कालिया आजीवन जेल में रहेगा। हैड लोक अभियोजक शिवरतन शर्मा ने बताया कि अभियुक्त करण गुजरात का रहने वाला है और खाटूश्यामजी इलाके में बर्तन धोकर गुजारा करता था। वह 30 जनवरी को वहीं

यह आर्टिकल एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड हुआ है। इसे नवभारतटाइम्स.कॉम की टीम ने एडिट नहीं किया है।

भाषा | Updated:

सीकर, 11 फरवरी (भाषा) राजस्थान के सीकर जिले के खाटूश्यामजी थाना इलाके में चार साल साल की मासूम से ज्यादती करने के मामले में अदालत ने वाद दायर करने के पांच दिन में फैसला सुनाते हुए अभियुक्त को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश अनिल कुमार कौशिक ने सोमवार को पोक्सो एक्ट में यह फैसला सुनाया। फैसले के अनुसार अभियुक्त करण उर्फ कालिया आजीवन जेल में रहेगा। हैड लोक अभियोजक शिवरतन शर्मा ने बताया कि अभियुक्त करण गुजरात का रहने वाला है और खाटूश्यामजी इलाके में बर्तन धोकर गुजारा करता था। वह 30 जनवरी को वहीं डेरे में रहने वाली चार साल की मासूम को टॉफी दिलाने के बहाने श्मशान भूमि में ले गया था और उससे ज्यादती की थी। पुलिस ने तेजी से जांच करते हुए महज पांच दिन में चालान पेश कर दिया। खास बात यह है कि अदालत ने महज पांच दिन की सुनवाई में ही आरोपी को सजा सुना दी।

 

पाइए राजस्थान समाचार(rajasthan News in Hindi)सबसे पहले नवभारत टाइम्स पर। नवभारत टाइम्स से हिंदी समाचार (Hindi News) अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App और रहें हर खबर से अपडेट।

rajasthan
News
 से जुड़े हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए NBT के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें
Web Title life imprisonment for innocence in excessive life

(Hindi News from Navbharat Times , TIL Network)




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *