Search
Friday 20 September 2019
  • :
  • :

jaipur News: राजीव गांधी को भाजपा-संघ का चरित्र अखरता था क्योंकि दोनों दलित, अल्पसंख्यक विरोधी थे : धारीवाल – rajiv gandhi had the character of the bjp as the two dalits were anti-minority, dhariwal

जयपुर, 20 अगस्त (भाषा) राजस्थान के संसदीय कार्य और शहरी विकास मंत्री शांति धारीवाल ने कहा कि राजीव गांधी को भाजपा और संघ का चरित्र इसलिए अखरता था क्योंकि ये दोनों शुरू से दलित और अल्पसंख्यक विरोधी थे। जयपुर में एक कार्यक्रम को संबोंधित करते हुए उन्होंने कहा कि राजीव गांधी महान मानवतावादी व्यक्ति थे। उन्होंने कहा, ‘‘राजीव गांधी सबसे ज्यादा परेशान राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ की विचाराधारा से थे। उनकी यह पक्की सोच थी कि यह देश अगर सबसे ज्यादा नुकसान उठायेगा, इस देश में सांप्रदायिक तनाव से सबसे अधिक नुकसान होगा तो वह आरएसएस की नीतियों की वजह से

डिसक्लेमर: यह आर्टिकल एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड हुआ है। इसे नवभारतटाइम्स.कॉम की टीम ने एडिट नहीं किया है।

भाषा | Updated:

जयपुर, 20 अगस्त (भाषा) राजस्थान के संसदीय कार्य और शहरी विकास मंत्री शांति धारीवाल ने कहा कि राजीव गांधी को भाजपा और संघ का चरित्र इसलिए अखरता था क्योंकि ये दोनों शुरू से दलित और अल्पसंख्यक विरोधी थे। जयपुर में एक कार्यक्रम को संबोंधित करते हुए उन्होंने कहा कि राजीव गांधी महान मानवतावादी व्यक्ति थे। उन्होंने कहा, ‘‘राजीव गांधी सबसे ज्यादा परेशान राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ की विचाराधारा से थे। उनकी यह पक्की सोच थी कि यह देश अगर सबसे ज्यादा नुकसान उठायेगा, इस देश में सांप्रदायिक तनाव से सबसे अधिक नुकसान होगा तो वह आरएसएस की नीतियों की वजह से होगा।’’ उन्होंने कहा, ‘‘1929 में जब महात्मा गांधी ने पूरे देशवासियों से 26 जनवरी 1930 को स्वतंत्रता दिवस मनाने का आह्वान किया और लोगों से अपने-अपने घरों पर तथा जहां जहां भी लोग जाते हों वहां तिरंगा झंडा लहराने की अपील की तब भी उस दिन संघ की शाखाओं में भगवा ध्वज की वंदना हो रही थी।’’ उन्होंने कहा, ‘‘राष्ट्रीय ध्वज की जगह ये लोग केसरिया झंडा ही फहराना चाहते हैं। गोलवलकर (माधवराव सदाशिवराव गोलवलकर, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के द्वितीय सरसंघचालक तथा विचारक) ने राष्ट्रीय ध्वज का जबरदस्त अपमान किया था। संघ ने शुरू से कहा है और उसका आज से नहीं 1925 से यही कहना है कि राष्ट्रगान जन गण मन देशभक्ति की वो भावनाएं नहीं जगाता जो राष्ट्रगीत करता है। ये लोग राष्ट्रगान के भी खिलाफ थे।’’ उन्होंने कहा कि संघ के लोग खुलेआम कहते थे कि तिरंगा में तीन रंग कैसे एक ही रंग होना चाहिए मतलब भगवा रंग होना चाहिए।

Web Title rajiv gandhi had the character of the bjp as the two dalits were anti-minority, dhariwal(News in Hindi from Navbharat Times , TIL Network)



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *