Search
Friday 15 November 2019
  • :
  • :

jaipur News: एसपीजी सुरक्षा हटाया जाना ओछी राजनीति और मानसिक दिवालियापन की निशानी : गहलोत – spg security removal gehlot a sign of petty politics and mental bankruptcy

डिसक्लेमर: यह आर्टिकल एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड हुआ है। इसे नवभारतटाइम्स.कॉम की टीम ने एडिट नहीं किया है।

NBT

जयपुर, आठ नवंबर (भाषा) कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी व उनके परिवार की एसपीजी सुरक्षा हटाने के लिए केंद्र सरकार पर हमला बोलते हुए राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने इसे ओछी राजनीति बताया। गहलोत ने कहा कि यह जो इस तरह की राजनीति कर रहे हैं, इस उनके मानसिक दिवालियापन का संकेत है। प्रधानमंत्री जी को चाहिए वह हस्तक्षेप करें। उल्लेखनीय है कि केंद्र सरकार ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, उनके बेटे राहुल और बेटी प्रियंका से एसपीजी सुरक्षा वापस ले ली है और अब उन्हें सीआरपीएफ की ‘जेड प्लस’ सुरक्षा दी जाएगी। इस बारे में सवाल करने पर गहलोत ने कहा, ‘‘यह बहुत ओछी राजनीति पर उतर आए हैं, बहुत ओछी, बहुत लो लेवल की राजनीति पर उतर आए हैं।’’ गहलोत ने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री को चाहिए कि वह हस्तक्षेप करें। अगर गृहमंत्री अपने स्तर पर कोई फैसला कर रहे हैं तो प्रधानमंत्री महोदय को चाहिए वह हस्तक्षेप करें इस प्रकार की हरकत करने का किसी को अधिकार नहीं होना चाहिए। अगर इस बारे में प्रधानमंत्री को जानकारी है तो यह देश का दुर्भाग्य है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘इंदिरा गांधी ने जान दे दी देश के लिए लेकिन खालिस्तान नहीं बनने दिया, आतंकवाद का मुकाबला किया, इंदिरा गांधी की जान चली गई, सरदार बेअंत सिंह की जान चली गई, राजीव गांधी की जान चली गई… तो एसपीजी कवर जो है सोच समझकर के संसद के कानून के अंतर्गत मिला हुआ है। सुरक्षा जिंदगी बचाने के लिए मिली है, इसमें और क्या हो सकता है, इसमें कोई लाभ क्या है?’’ उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने एसपीजी सुरक्षा वापस बहाल करने की मांग करते हुए इसे राजनीति से प्रेरित फैसला बताया। आतंकवादी हमले में इंदिरा गांधी व राजीव गांधी की मौत का जिक्र करते हुए पायलट ने ट्वीट किया, ‘‘गांधी परिवार की सुरक्षा को स्पष्ट खतरे के बावजूद उनके सुरक्षा कवर को कम करने का सरकार का निर्णय राजनीति से प्रेरित दिखता है।’’ पायलट ने लिखा है, ‘‘इससे गांधी परिवार की जान जोखिम में पड़ रही है। उनका एसपीजी कवर तत्काल बहाल किया जाना चाहिए।’’ वहीं कांग्रेस महासचिव अविनाश पांडे ने इसके लिए केन्द्र सरकार की आलोचना करते हुए इसे गहरी साजिश करार दिया। उन्होंने कहा यह पूरे देश और विपक्ष के लिए संवेदनशील मामला है। एक कार्यक्रम के लिए यहां पहुंचे पांडे ने इस बारे में पूछे जाने पर संवाददाताओं से कहा, ‘‘कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और गांधी परिवार के अन्य सदस्यों की सुरक्षा हटाने का जो फैसला केन्द्र सरकार ने किया है … यह एक वाक्य में पूरे देश और विपक्ष के लिये बहुत ही सनसनीखेज और बहुत ही संवेदनशील मामला है।’’ महाराष्ट्र से कांग्रेस के नवनिर्वाचित विधायकों के राजस्थान आने की अटकलों पर पांडे ने कहा, ‘‘विधायक यहां आ रहे हैं इसकी जानकारी मुझे नहीं है लेकिन उनका मैं स्वागत करता हूं। राजस्थान एक बहुत अच्छा राज्य है और लोग दूर-दूर से राजस्थान देखने के लिये आते हैं।’’




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *