Search
Friday 20 September 2019
  • :
  • :

Famous Agricultural Economist Vijay Shankar Vyas Dies – विख्यात कृषि अर्थशास्त्री विजय शंकर व्यास का निधन

Famous Agricultural Economist Vijay Shankar Vyas Dies – विख्यात कृषि अर्थशास्त्री विजय शंकर व्यास का निधन

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, जयपुर
Updated Thu, 13 Sep 2018 06:14 AM IST

ख़बर सुनें

विख्यात कृषि अर्थशास्त्री विजय शंकर व्यास का बुधवार को जयपुर में निधन हो गया। उनको पद्मभूषण से सम्मानित किया गया था। वह 87 वर्ष के थे और कुछ दिनों से बीमार चल रहे थे। उनके परिवार के एक सदस्य ने यह जानकारी दी। प्राप्त जानकारी के मुताबिक, प्रो. व्यास का अंतिम संस्कार बुधवार की शाम को यहां लालकोठी स्थित शमशान गृह में किया गया। उनके परिवार में पत्नी और दो पुत्र हैं। बीकानेर निवासी व्यास ने विश्व बैंक के कृषि एवं ग्रामीण विकास विभाग में वरिष्ठ सलाहकार, आईआईएम अहमदाबाद एवं आईडीएस जयपुर के निदेशक पद पर काम किया था। 

इसके साथ ही उन्होंने देश विदेश के विख्यात संस्थानों में प्रतिष्ठित पदों पर सेवा दी थी। राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रो. व्यास के निधन पर गहरी शोक संवेदना प्रकट की। वसुंधरा राजे ने ट्वीट कर कहा कि विख्यात कृषि आर्थिक विशेषज्ञ व्यास ने अपने काम से दुनिया भर में एक खास पहचान बनाई थी। उनके निधन से राजस्थान, खास तौर पर बीकानेर ने एक प्रेरणास्रोत को खो दिया है।

विख्यात कृषि अर्थशास्त्री विजय शंकर व्यास का बुधवार को जयपुर में निधन हो गया। उनको पद्मभूषण से सम्मानित किया गया था। वह 87 वर्ष के थे और कुछ दिनों से बीमार चल रहे थे। उनके परिवार के एक सदस्य ने यह जानकारी दी। प्राप्त जानकारी के मुताबिक, प्रो. व्यास का अंतिम संस्कार बुधवार की शाम को यहां लालकोठी स्थित शमशान गृह में किया गया। उनके परिवार में पत्नी और दो पुत्र हैं। बीकानेर निवासी व्यास ने विश्व बैंक के कृषि एवं ग्रामीण विकास विभाग में वरिष्ठ सलाहकार, आईआईएम अहमदाबाद एवं आईडीएस जयपुर के निदेशक पद पर काम किया था। 

इसके साथ ही उन्होंने देश विदेश के विख्यात संस्थानों में प्रतिष्ठित पदों पर सेवा दी थी। राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रो. व्यास के निधन पर गहरी शोक संवेदना प्रकट की। वसुंधरा राजे ने ट्वीट कर कहा कि विख्यात कृषि आर्थिक विशेषज्ञ व्यास ने अपने काम से दुनिया भर में एक खास पहचान बनाई थी। उनके निधन से राजस्थान, खास तौर पर बीकानेर ने एक प्रेरणास्रोत को खो दिया है।




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *