Search
Saturday 17 November 2018
  • :
  • :

सूरत से दिल्ली हार्ट ट्रांसप्लांट के लिए 1158 किमी का रास्ता 117 मिनट में तय

सूरत से दिल्ली हार्ट ट्रांसप्लांट के लिए 1158 किमी का रास्ता 117 मिनट में तय

मिहिर का दिल, लीवर और किडनी ट्रांसप्लांट किया गया
सूरत
आईटीआई स्टूडेंट मिहिर भारत पटेल के दिल को गुजरात के सूरत से दिल्ली लाया गया। मिहिर का दिल दिल्ली के एम्स में भर्ती गोविंद मेहरा (32) के ट्रांसप्लांट किया गया। इसके लिए ग्रीन कॉरिडोर बनाया गया और 1158 किमी की दूरी को मात्र 117 मिनट में तय कर लिया गया। इस तरह मिहिर ने मरने के बाद शख्स की जान बचाई।

दरअसल 18 साल के मिहिर की सड़क हादसे मौत हो गई। डॉक्टर ने उसे ब्रेन डेड घोषित कर दिया। मातम के समय में परिवार ने तय किया कि वह उसके अंगों को दान करेंगे। दरअसल 10 सितंबर को हाजिरा रोड पर मिहिर की मोटरसाइकल को एक ट्रक ने टक्कर मार दी थी। उन्हें सनशाइन ग्लोबल अस्पताल लाया गया। उनके दिमाग में रक्त का धक्का बन गया था और 12 सितंबर को डॉक्टरों ने उसे ब्रेन डेड घोषित कर दिया।

वहीं साल 2012 में गोविंद के हार्ट का वाल्व बदला जाना था। उन्हें एक नए हृदय की जरूरत थी क्योंकि उनके हृदय की पंपिंग क्षमता 15 फीसदी तक घट गई थी। एम्स के एक डॉक्टर ने दिल सुरक्षित निकालकर कुछ ही घंटों में गोविंद को ट्रांसप्लांट कर दिया।

सिर्फ हृदय ही नहीं परिवार ने मिहिर की किडनी, लीवर और आंखों को भी दान किया गया। एक ओर इंस्टिट्यूट ऑफ किडनी डिसीज ऐंड रिसर्च सेंटर ने मिहिर की किडनी और लिवर को सुरक्षित निकाल लिया है। दूसरी ओरलोकदृष्टि आई बैंक के डॉ. प्रभुल शिरोया ने आंख सुरक्षित कर लिए।

30 महीनों में हृदय प्रत्यारोपण के लिए अंगदान का 19वां मामला
मिहिर की किडनी संजय एम कनानी (34) और अदनान अंसारी (12) को ट्रांसप्लांट की गई तो उनका लीवर अहमदाबाद की मंजुरा हरसौदा (50) को ट्रांसप्लांट कर दिया गया। पिछले 30 महीनों में सूरत से हृदय प्रत्यारोपण के लिए अंगदान यह 19वां मामला है




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *