Search
Friday 21 September 2018
  • :
  • :

‘व्हिस्की में विष्णु बसें, रम में श्रीराम’, राज्य सभा में दे चुके हैं ऐसे विवादित बयान नरेश अग्रवाल

‘व्हिस्की में विष्णु बसें, रम में श्रीराम’, राज्य सभा में दे चुके हैं ऐसे विवादित बयान नरेश अग्रवाल

राज्यसभा सदस्य नरेश अग्रवाल समाजवादी पार्टी छोड़कर भाजपा में शामिल हो गये हैं. पीएम नरेंद्र मोदी और यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ से खुद को काफी प्रभावित बताने वाले इस नेता ने राज्यसभा में अपने बजाय जया बच्चन को तरजीह देने पर सपा को निशाना बनाते हुए उन्होंने कहा था कि फिल्मों में नाचनेवाली के नाम पर मेरा टिकट काटा गया. नरेश अग्रवाल के इस बयान पर विरोध शुरू हो गया है विदेश मंत्री सुषमा स्‍वराज भी नरेश अग्रवाल की इस टिप्‍पणी पर नाराज हो गयीं. उन्‍होंने ट्वीट कर नरेश अग्रवाल की टिप्‍पणी पर नाराजगी जतायी. उन्‍होंने ट्वीट में लिखा, श्री नरेश अग्रवाल भारतीय जनता पार्टी में शामिल हुए हैं. उनका स्वागत है. लेकिन जया बच्चन जी के विषय में उनकी टिप्पणी अनुचित एवं अस्वीकार्य है.

बहरहाल, नरेश अग्रवाल का यह विवादित बयान काेई नयी बात नहीं है. विवादों से उनका पुराना नाता है. पिछले कुछ महीनों में नरेश अग्रवाल ने संसद के अंदर और बाहर कई ऐसे बयान दिये, जिनसे वह खबरों में छा जाते. इसी साल फरवरी में नरेश अग्रवाल ने लखनऊ में आयोजित वैश्य महासम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जातिसूचक शब्द कहे. इस पर उनका ​काफी विरोध हुआ. इस फरवरी में ही श्रीनगर के अस्पताल से आतंकी को छुड़ा ले जाने की घटना पर नरेश अग्रवाल ने देश की सेना को लेकर विवादित बयान दिया. नरेश अग्रवाल ने कहा कि जब हम आतंकवादियों से नहीं निपट पा रहे हैं, तो पाकिस्तानी सेना आ जायेगी तो क्या हाल होगा.

दिसंबर 2017 में नरेश अग्रवाल ने पाकिस्तानी जेल में बंद कुलभूषण जाधव मामले में विवादास्पद बयान दिया. उन्होंने कहा था, किसी देश की क्या नीति है, वह देश जानता है. अगर उन्होंने कुलभूषण जाधव को अपने देश में आतंकवादी माना है तो वे उस हिसाब से व्यवहार करेंगे. हमारे देश में भी आतंकवादियों के साथ कड़ा व्यवहार करना चाहिए. इससे पहले पिछले साल जुलाई 2017 में राज्यसभा में नरेश अग्रवाल ने हिंदू देवी देवताओं को मदिरा से जोड़ते हुए विवादित बयान दिया. इस पर राज्यसभा में भारी हंगामा हुआ था.

आज जिस भारतीय जनता पार्टी के सदस्य बनकर नरेश अग्रवाल गर्व कर रहे हैं, इससे पहले वह कर्इ बार इस पार्टी की निंदा कर चुके हैं. एक बार उन्होंने भाजपा की सोच को संकीर्ण बताते हुए कहा था कि बीजेपी की सोच इतनी संकीर्ण क्‍यों है? यह किसी के निजी जीवन में दखल है. अब मान लीजिए किसी की उस दिन सुहागरात होती, तो ये कहते ये सुहागरात क्‍यों मना रहा है?

यूपी के बदायूं में हुए गैंगरेप पर भी नरेश अग्रवाल विवादित टिप्पणी कर चुके हैं. अग्रवाल से जब एक महिला को अगवा करके कथित रूप से गैंगरेप की घटना और प्रदेश में कानून व्यवस्था पर सवाल पूछा गया था तो उन्होंने जवाब में कहा, आप एक बछिया को भी जबरदस्ती घसीटकर नहीं ले जा सकते. मुंबई गैंगरेप के बाद भी अग्रवाल ने रेप की घटनाओं से बचने के लिए लड़कियों को अनोखी सलाह दे डाली थी. तब उन्होंने कहा था कि रेप से बचने के लिए लड़कियों को अपने कपड़ों का ख्याल रखना चाहिए. नरेश अग्रवाल ने कहा था, हमें सामाजिक सोच को बदलना पड़ेगा. टीवी की अश्लीलता, रहन-सहन और कपड़े पहनने के तौर-तरीकों पर भी ध्यान देना होगा. यही नहीं, नरेश अग्रवाल ने क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग और अन्य खिलाड़ी योगेश्वर दत्त, बबीता फोगाट पर आपत्तिजनक टिप्पणियां भी की थीं. उन्होंने कहा, देश में चाटुकारिता करने वालों की कमी नहीं है. यह चाटुकार और भांड खड़े हो जाते हैं. यह कभी देशभक्त नहीं हो सकते हैं और कभी देश के पक्ष में नहीं बोल सकते. इन सब को हम को गंभीरता से नहीं लेना चाहिए.




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *