Search
Friday 20 September 2019
  • :
  • :

वसुंधरा ने की ‘जन’ को ‘धन’ देने की शुरूआत

वसुंधरा ने की ‘जन’ को ‘धन’ देने की शुरूआत

4

(प्रधानमंत्री जन-धन योजना का जयपुर में मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने शुभारंभ किया।)

जयपुर. प्रधानमंत्री जन-धन योजना के तहत देशभर में गुरुवार को डेढ़ करोड़ बैंक खाते खोले गए। इसके साथ ही इन लोगों का एक लाख रुपए का दुर्घटना बीमा भी हो गया। इस योजना की शुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिल्ली में की। इसी दौरान एक समारोह में जयपुर में मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने 10 लोगों को जीरो बैलेंस के खातों के प्रमाण-पत्र दिए। इससे पहले दिल्ली से मोदी के कार्यक्रम को लाइव दिखाया गया।
मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने कहा कि केंद्र की प्रधानमंत्री जन-धन योजना और राज्य सरकार की भामाशाह योजना के मेल से प्रदेश में न केवल महिलाओं के सशक्तीकरण एवं वित्तीय समावेशन का लक्ष्य हासिल होगा, बल्कि इन दोनों योजनाओं के साथ-साथ लागू होने से राज्य की जनता को दोहरा लाभ मिलेगा।
उन्होंने जयपुर के महाराणा प्रताप ऑडिटोरियम में राज्यस्तरीय समारोह में प्रधानमंत्री मोदी को इस योजना के लिए राज्य की जनता की ओर से बधाई दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने अपनी पिछली सरकार के समय लागू की गई भामाशाह योजना को 15 अगस्त से राज्य में फिर से शुरू कर दिया है। भामाशाह योजना में महिला को परिवार की मुखिया बनाया गया है। इसके तहत बजट घोषणा के अनुरूप लाभार्थी बीपीएल परिवार की महिलाओं को दो हजार रुपये की राशि अकाउंट के माध्यम से दी जाएगी।
यह है जन-धन योजना
सभी बैंकों की ओर से जीरो बैलेंस पर खाते खोले जाएंगे। एक परिवार में कम से कम दो बचत खाते खोले जाएंगे। इसमें महिला सदस्य को प्राथमिकता दी जाएगी। इस खाते के खुलने के साथ ही खाताधारक का 1 लाख रुपए का दुर्घटना बीमा हो जाएगा। साथ ही महिला सदस्य को 5000 रुपए की ऋण सीमा उपलब्ध कराई जाएगी। खाते के साथ एक डैबिट कार्ड भी दिया जाएगा। इससे एटीएम पर पैसे निकालने या खरीदारी करने में उपयोग किया जा सकेगा। इसके साथ ही 30 हजार रुपए का लाइफ इंश्योरेंस भी किया जाएगा। बैंक खाता खोले जाने के बाद 6 माह तक संतोषजनक व्यवहार होने की स्थिति में 5000 रुपए तक ओवरड्राफ्ट की सुविधा भी दी जा सकती है। इसकी शुरुआत 100 रुपए से होगी। ओवरड्राफ्ट का ब्याज नियमित जमा कराने पर इसे बढ़ाया जा सकेगा।
वक्रांगी होगी एजेंसी। देश के 27 बैंकों के बिना पर यह खाते खोलने के लिए वक्रांगी कंपनी के साथ एमओयू किया गया है। इसके तहत खाते खोले जाने, जनता को जागरूक करने आदि का काम वक्रांगी की ओर से किया जा रहा है। प्रदेश के 4000 से ज्यादा ग्राम पंचायतों पर खाते खोले जा रहे हैं।



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *