Search
Friday 20 September 2019
  • :
  • :

भारतीय बाजार में चीन का कृत्रिम अंडा, सरकार ने बैठाई जांच

भारतीय बाजार में चीन का कृत्रिम अंडा, सरकार ने बैठाई जांच

news-12तिरुअनंतपुरम- चीन में कृत्रिम रूप से बने अंडे केरल के कई इलाकों में बिकने की खबर के बाद वहां का स्वास्थ्य विभाग सक्रिय हो गया है। बुधवार को राज्य की स्वास्थ्य मंत्री केके शैलजा ने कहा, सच्चाई जानने के लिए जांच कराई जाएगी।

इस बारे में खाद्य सुरक्षा आयुक्त से कहा गया है कि वे जांच करके बताएं कि अंडे को कैसे तैयार किया गया है और उसमें क्या हानिकारक है ? यह अंडा कैसे केरल के बाजार में आया, यह भी पूछा गया है। मीडिया रिपोर्टो के अनुसार यह अंडा तमिलनाडु से केरल आया है। यह इडुक्की जिले के रास्ते लाया गया है। यह केरल का सीमावर्ती जिला है।

वहां की चिकित्सा अधिकारी रेखा के मुताबिक मीडिया में खबर आने के बाद वह भी मामले की जांच कर रही हैं। उन्होंने बताया कि हल्के ब्राउन रंग का यह अंडा फोड़ा जाता है तो उसमें सामान्य अंडे जैसा ही पदार्थ निकलता है लेकिन मक्खी और अन्य जीव उसके पास नहीं आते। यह अंडा जल्द खराब भी नहीं होता है। इसके द्रव पदार्थ में क्या-क्या मिला है, इसकी जांच अभी बाकी है।

पौष्टिक नहीं है नकली अंडा-मुर्गी का अंडा प्रोटीन और अन्य पोषक तत्वों के चलते शरीर के लिए लाभदायक होता है। लेकिन नकली अंडा केवल रासायनिक पदार्थो से तैयार होता है जिससे शरीर को फायदा नहीं होता। हां, नुकसान कितना होता है-इसकी पूरी परख के बाद ही जानकारी मिलेगी।

कैल्सियम कार्बोनेट से तैयार बाहरी खोल के भीतर सोडियम एलिग्नेट, एलम, जिलेटिन और कैल्सियम क्लोराइड की रचनाओं को भरकर कृत्रिम अंडा तैयार किया जाता है। नकली अंडे का बाहरी स्तर थोड़ा खुरदुरा होता है जबकि असली अंडा चिकना होता है।

उबालने के बाद कैल्सियम कार्बोनेट का कवर तोड़ने पर प्राप्त होने वाला नकली अंडा असली की तुलना में कड़ा होता है। भीतर की पीली जर्दी रबर की गेंद की मानिंद हो जाती है और थोड़ी ऊंचाई से छोड़ने पर गेंद जैसी उछलती भी है। यह धारदार वस्तु से ही कटती है।




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *