Search
Monday 25 March 2019
  • :
  • :

गंभीर से गंभीर रोग में शीघ्र स्वस्थ होने की विधि

गंभीर से गंभीर रोग में शीघ्र स्वस्थ होने की विधि

                                                                                                गंभीर से गंभीर रोग में शीघ्र स्वस्थ होने की विधि

1)प्रति दिन रात समय से सो जाओ लगभग रात्रि 10 बजे अथवा जैसे ही सहज नींद आ जाये,प्रातः जल्दी उठे अथवा जैसे सहज हो, अपने आलस को सहजता मत समझ लेना है।लगभग 7 घण्टे की नींद लेना उचित है।

2)सुबह उठकर ताजा जल 2-3 गिलास बैठकर जरूर पिए । फिर नित्य कर्म से निवृत होकर टहलने जरूर जाय, व्यायाम जरूर करे,हल्का पसीना आना चाहिए ।

3)गहरी लंबी धीमे धीमे नाभि तक स्वास छोड़ना लेना जरूर करे,दिन के समय भी जब भी याद आये , गहरी लम्बी स्वास ले छोड़े।ज्यादा से ज्यादा गहरी लम्बी धीमी स्वास की आदत डालें , नाभि तक गहरी लंबी धीमी स्वास लेनी है छोड़नी है ।जिससे शरीर में प्राण की मात्रा बढे।

4)जब आप स्वास को ले रहे है आँखे धीमे से बंद कर ले और आती जाती स्वास को पहले कुछ दिन नाक के नथुने से बहार आते अंदर जाते महसूस करे देखे,अपना पूरा ध्यान इस बात पर रहे कैसे स्वास आप धीमे धीमे अंदर ले रहे है ।उस स्वास को उसके स्वाद को महसूस करे। कैसे धीमे धीमे बहार निकाल रहे है।शुरू शुरू में 1 घण्टे ध्यान में सुबह व शाम बैठे या खड़े होकर जिस भी स्थिति में सहज हो , अपनी गहरी स्वास के आने जाने को ध्यान करे ।

विनय त्रिफला रस सेवन करे निरोगी रहे 

5)जब आप स्वास ले रहे होते है ध्यान पूरा नाक के नथुने से अंदर प्रवेश करती व बाहर निकलती प्राण वायु पर हो।
साथ ही साथ। “””स्वस्थ हूँ””” के भाव को हर स्वास के साथ करे।

6) कुछ दिन इस तरह ध्यान करने से आप नाक के नथुनों से आज्ञा चक्र तक दोनों भौहों के मध्य माथे तक कुछ शितलता खिंचाव महसूस करेंगे,वायु के घर्षण को महसूस करेंगे।

7)तब आप दोनों भौहों के मध्य माथे पर ही अपना ध्यान ,स्वास की शितलता पर ले जाकर आते जाते स्वास को महसूस करेंगे और अपने भाव को सतत हर आती जाती स्वास के साथ दोहराएंगे।”””” स्वस्थ हूँ””” ऐसा सिर्फ भाव ही नही करना है अपने स्वास्थ्य को महसूस करे। उसके घटने को महसूस करे ।प्राण के रूप में जो संजीवनी हममे प्रवेश कर रही है की वो लगातार आपको स्वस्थ बनाए हुए है। बार बार हर स्वास के साथ “””” स्वस्थ हूँ”””, “””” स्वस्थ हूँ””” दोहराए अपने भाव को प्रगाढ़ करे।

8)शुरू शुरू में उपरोक्त कार्य एक घण्टे सुबह एक घण्टे शाम ताजी स्वच्छ वायु में करे। हर आती जाती स्वास के साथ आप एक ही भाव गहरे में रखे”””स्वस्थ हूँ”””, “”” स्वस्थ हूँ”””।इस मंत्र को ही दोहराना है।

9)”” स्वस्थ हूँ”” ये आपका मंत्र है। इसको हर स्वास के साथ जोड़ देना है। जो कार्य हमने 1 घण्टे सुबह 1 घण्टे शाम किया इसको अपने पूरे 24 घण्टे पर फैला दो।ध्यान के समय के अलावा जब आप ये कर रहे है आँख बंद करने की भी जरूरत नही।एक धारा सतत चित में प्रगाढ़ होती रहे “””” स्वस्थ हूँ”””” और परमात्मा के प्रति धन्यवाद के भाव से भरे।रात को सोने से पूर्व इसी भाव के साथ सो जाय ,जिससे रात भर ये मंत्र काम करता रहे,साथ ही साथ परमात्मा के अनुग्रह का भाव धन्यवाद का भाव रहे।

10)आप जैसे सहज महसूस करे इस अभ्यास को करे।
मूल बात ये है कि हमे मन से ये बार बार दोहराना है कि “””स्वस्थ हूँ””” साथ में गहरी लंबी धीमी नाभि तक स्वास का अभ्यास करना है दोनों को जोड़ देना है।

11) यह शिव सूत्र है “””चित ही मंत्र है””” आप जो भी मन से दोहराते है वही घटने लगता है।जो भी दोहराओगे वही घटने लगेगा।वही घटता भी है। आपके मन के द्वारा जो भी बार बार पुनरुक्ति की जाती है वह चित की धारा में प्रवाह बन जाता है।वही शक्ति बन जाती है।वही आपके याद करते ही प्रकट होने लगती है।मन शरीर दो नही एक ही है।मन पर जो जो घटेगा शरीर पर लक्षण आने शुरू हो जाते है।दोनों एक दूसरे से गहरे में जुड़े है।

12) उपरोक्त प्रक्रिया में एक बात और जोड़ लीजिये यदि आप किसी गंभीर बीमारी से , रोग से ग्रसित है , शीघ्र स्वस्थ होना चाहते है तो आप अपने दोनों हाथों की हथेलियां आपस में टकराए । यह एक दिन में कम से कम 500 बार जोर जोर से हथेलियां टकराकर बजाये।हर टकराहट के साथ एक ही भाव की आप “”” स्वस्थ है””” ये मंत्र बन जाय।आपके गहरे में ये भाव एक धारा प्रवाह बन जाय।आपका अंतश इस जगत में फैले प्राण प्रवाह को संजीवनी को आपमें तेजी प्रवेश के लिए तैयार होगा । वो सभी ग्रन्थियां जो मन व शरीर के स्तर पर गलत जीवन शैली से पैदा हो गयी टूट जायेगी।

13)आप कितनी भी गंभीर बीमारी से, लाइलाज बीमारी से ग्रसित है इस सूत्र को समझ कर उपयोग कर इसका लाभ ले सकते है।आप साधना शुरू होने के उपरांत 15 दिन में एक बार चेकअप जरूर कराये,सतत लगे रहे,आपको लाभ जरूर मिलेगा।धीमे धीमे ये बात प्रगाढ़ होना शुरू हो जायेगी की आप स्वस्थ हो रहे है।एक क्रम तेजी से आपको स्वस्थ करने में विकसित होने लगेगा।
जब तक आप पूर्ण स्वस्थ न हो जाये सतत इस प्रक्रिया में लगे रहना है।परमात्मा के प्रति एक अनुग्रह ,धन्यवाद के भाव से भरे आगे बढ़ना होता रहे तो बड़ा सहयोगी होगा।पूरा अस्तित्व आपको स्वस्थ किये जाने के प्रवाह से भर उठेगा।

14) पूर्व में सभी मंत्रो का निर्माण इसी मन की प्रक्रिया को ध्यान में रख कर किया गया था जो हम विस्मृत कर चुके है।इस विधि के संबंध में किसी पूर्वाग्रह से भरे बिना पहले करे देखे,परिणाम निश्चित है।ये पूरा वैज्ञानिक है।आप हर 15 दिन पर अपना चेकअप कराकर अपनी प्रगति रिपोर्ट बनाये।आप समझ जाएंगे ये कारगर है।ये गहरे से गहरे सूत्रों में से एक है।

उत्तम विद्रोही जैन
विनय प्राकृतिक व आयुर्वेदिक उपचार केंद्र
उधना – सूरत
संपर्क – 8460783401




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *