Search
Friday 15 January 2021
  • :
  • :

आलोचकों को मेरा काम समझने में वक्त लगेगा : मोदी

आलोचकों को मेरा काम समझने में वक्त लगेगा : मोदी

अहमदाबाद, मंगलवार, 16 सितम्बर 2014

अहमदाबाद। अपनी सरकार के 100 दिनों के कामकाज की आलोचनात्मक समीक्षा और उपचुनाव में विपरीत परिणाम आने के बीच प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को अपने आलोचकों को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि उनका काम और उनके कामकाज के तरीकों को समझने में उन्हें (आलोचकों को) समय लगेगा।2

मोदी ने यहां भाजपा कार्यकर्ताओं द्वारा आयोजित उनके सम्मान समारोह में कहा, कुछ चीजें विगत में नहीं देखी गईं। कुछ लोगों के लिए यह नई और अनूठी चीज होगी। उन्हें नई चीज को समझने में थोड़ा समय लगेगा। वे इसे पिछले 12 साल में गुजरात में नहीं समझ पाए।
उन्होंने कहा, अभी तक वे इसे समझ नहीं पाए हैं, लेकिन मैंने यह मंत्र अपनाया है-सर्वजन हिताय, सर्वजन सुखाय। और मैं आश्वस्त हूं कि यह काम करेगा। उनकी सरकार में दूर की सोच (विजन) का अभाव होने को लेकर हो रही आलोचना पर मोदी ने कहा, कई बार विजन को लेकर बहस होती है। बड़ा विजन, भव्य विजन, आदि। यह जो भी हो, मैं तो बहुत छोटा आदमी हूं। और मैं इस देश के छोटे लोगों के लिए जीता हूं।
मोदी ने कहा, मैं छोटा सोचता हूं और छोटी चीजें सोचकर, मैं इन छोटे लोगों में से आदमी को बड़ा बना देता हूं। आज जब ये सभी छोटे लोग बड़े बन जाएंगे तो भारत सीमाओं से परे जाकर विकसित हो जाएगा।
मोदी ने कहा, हमने जन-धन योजना शुरू की है। इस देश के व्यापारियों को ॠण लेने के लिए बैंक प्रबंधकों के आगे विनम्रता से खड़ा होना पड़ता है, लेकिन अब बैंक प्रबंधक को गरीब लोगों के मकान तक जाना पड़ रहा है और उनके लिए खाते खोलने पड़ रहे हैं। इसे विजन कहते हैं। बैंकिंग प्रणाली पहले से ही मौजूद थी लेकिन किसी ने इसका इस तरह से इस्तेमाल करने के बारे में नहीं सोचा कि गरीबों को साहूकारों से बचाया जा सके।
उन्होंने कहा, मैंने इस बारे में सोचा। बदलाव के लिए आपको स्वयं भी बदलना होता है। प्रधानमंत्री ने कहा, प्राकृतिक आपदाएं आती हैं और उन्हें कोई नहीं रोक सकता, लेकिन आपको इस प्रकार की प्राकृतिक आपदाओं के दौरान स्वयं को झोंकने की प्रतिबद्धता दिखानी होती है। पीड़ितों के लिए आपको अपने को झोंकना होगा।
उन्होंने कहा, मैंने पूर्ववर्ती प्रधानमंत्री के पूरे कार्यकाल की तुलना में इस छोटी सी अवधि में कश्मीर के ज्यादा बार दौरे किए हैं। पड़ोसी देशों के साथ संबंधों को मधुर बनाने के लिए अपनी सरकार की पहल के बारे में चर्चा करते हुए मोदी ने 17 साल तक नेपाल का दौरा नहीं करने के लिए पूर्ववर्ती प्रधानमंत्रियों की आलोचना की।
मोदी ने कहा, वायु मार्ग से नेपाल जाने में सवा घंटे से ज्यादा नहीं लगते हैं, लेकिन हमारे पूर्ववर्ती प्रधानमंत्रियों ने 17 साल तक नेपाल का दौरा नहीं किया। वे 17 साल में जो नहीं कर पाए मैंने सवा घंटे में कर दिया। उन्होंने कहा, वे नेपाल नहीं देख पाए लेकिन मैंने देख लिया।



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *